Br Ambedkar biography in Hindi | डॉ. भीमराव अम्बेडकर जीवनी

डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर भारतीय संविधान के शिल्पकार और आज़ाद भारत के पहले न्याय मंत्री थे। सामाजिक भेदभाव के विरोध में कार्य करने वाले सबसे प्रभावशाली लोगो में से एक Dr. Br Ambedkar थे। विशेषतः बाबासाहेब आंबेडकर – भारतीय न्यायविद, अर्थशास्त्री, राजनेता और समाज सुधारक के नाम से जाने जाते है।

महिला, मजदूर और दलितों पर हो रहे सामाजिक भेदभाव के खिलाफ आवाज़ उठाने और लढकर उन्हें न्याय दिलाने के लिए भारतरत्न डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर को सदा आदर से स्मरण किया जाते है।

भीमराव रामजी आंबेडकर जो विश्व विख्यात है। जिन्होंने अपना पूरा जीवन बहुजनो को उनका अधिकार दिलाने में व्यतीत किया। उनके जीवन को देखते हुए निच्छित ही यह लाइन उनपर सम्पूर्ण रूप से सही साबित होगी –

“जीवन लम्बा होने की बजाये महान होना चाहिये” Br Ambedkar

Dr. Br Ambedkar
Dr. Br Ambedkar

डॉ. भीमराव अम्बेडकर जीवनी – Dr. Br Ambedkar Biography in Hindi

पूरा नाम    – भीमराव रामजी अम्बेडकर
जन्म        – 14 अप्रेल 1891
जन्मस्थान – महू. (जि. इदूर मध्यप्रदेश)
पिता        – रामजी
माता        – भीमाबाई
शिक्षा       – 1915  में एम. ए. (अर्थशास्त्र)। 1916 में कोलंबिया विश्वविद्यालय में से PHD। 1921 में मास्टर ऑफ सायन्स। 1923  में डॉक्टर ऑफ सायन्स।
विवाह         – दो बार, पहला रमाबाई के साथ (1908 में) दूसरा डॉ. सविता कबीर के साथ (1948 में)

भीमराव रामजी आम्बेडकर का जन्म ब्रिटिशो द्वारा केन्द्रीय प्रान्त (अब मध्यप्रदेश) में स्थापित नगर व सैन्य छावनी मऊ में हुआ था। वे रामजी मालोजी सकपाल जो आर्मी कार्यालय के सूबेदार थे और भीमाबाई की 14 वी व अंतिम संतान थे।

Loading...

उनका परिवार मराठी था और वे अम्बावाड़े नगर जो आधुनिक महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में है, से सम्बंधित था। वे हिंदु महार (दलित) जाती से संपर्क रखते थे, जो अछूत कहे जाते थे और उनके साथ सामाजिक और आर्थिक रूप से गहरा भेदभाव किया जाता था।

आंबेडकर के पूर्वज लम्बे समय तक ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना में कार्यरत थे और उनके पिता, भारतीय सेना की मऊ छावनी में सेवा में थे ओ यहाँ काम करते हुए वो सूबेदार के पद तक पहुचे थे। उन्होने अपने बच्चो को स्कूल में पढने और कड़ी महेनत करने के लिए हमेशा प्रोत्साहित किया।

स्कूली पढाई में सक्षम होने के बावजूद आम्बेडकर और अन्य अस्पृश्य बच्चो को विद्यालय में अलग बिठाया जाता था और अध्यापको द्वारा न तो ध्यान दिया जाता था, न ही उनकी कोई सहायता की। उनको कक्षा के अन्दर बैठने की अनुमति नहीं थी, साथ ही प्यास लगने पर कोई उची जाती का व्यक्ति उचाई से पानी उनके हातो पर डालता था, क्यू की उनकी पानी और पानी के पात्र को भी स्पर्श करने की अनुमति नहीं थी।

लोगो के मुताबिक ऐसा करने से पात्र और पानी दोनों अपवित्र हो जाते थे। आमतौर पर यह काम स्कूल के चपरासी द्वारा किया जाता था जिसकी अनुपस्थिति में बालक आंबेडकर को बिना पानी के ही रहना पड़ता था। बाद में उन्होंने अपनी इस परिस्थिती को “ना चपरासी, ना पानी” से लिखते हुए प्रकाशित किया।

1894 में रामजी सकपाल सेवानिर्वुत्त हो जाने के बाद वे सहपरिवार सातारा चले गये और इसके दो साल बाद, आंबेडकर की माँ की मृत्यु हो गयी। बच्चो की देखभाल उनकी चची ने कठिन परिस्थितियों में रहते हुए की। रामजी सकपाल के केवल तिन बेटे, बलराम, आनंदराव और भीमराव और दो बेटियों मंजुला और तुलासा। अपने भाइयो और बहनों में केवल आंबेडकर ही स्कूल की परीक्षा में सफल हुए ओर इसके बाद बड़े स्कूल में जाने में सफल हुए।

अपने एक देशस्त ब्राह्मण शिक्षक महादेव आंबेडकर जो उनसे विशेष स्नेह रखते थे, उनके कहने पर अम्बावडेकर ने अपने नाम से सकपाल हटाकर आंबेडकर जोड़ लिया जो उनके गाव के नाम “अम्बावाड़े” पर आधारित था।

भीमराव आंबेडकर को आम तौर पर बाबासाहेब के नाम से जाने जाता हे, जिन्होंने आधुनिक बुद्धिस्ट आन्दोलनों को प्रेरित किया और सामाजिक भेदभाव के विरुद्ध दलितों के साथ अभियान चलाया, स्त्रियों और मजदूरो के हक्को के लिए लड़े। वे स्वतंत्र भारत के पहले विधि शासकीय अधिकारी थे और साथ ही भारत के संविधान निर्माता भी थे।

आंबेडकर एक बहोत होशियार और कुशल विद्यार्थी थे, उन्होंने कोलम्बिया विश्वविद्यालय और लन्दन स्कूल ऑफ़ इकनोमिक से बहोत सारी क़ानूनी डिग्री प्राप्त कर रखी थी और अलग-अलग क्षेत्रो में डॉक्टरेट कर रखा था, उनकी कानून, अर्थशास्त्र और राजनितिक शास्त्र पर अनुसन्धान के कारण उन्हें विद्वान की पदवी दी गयी.

उनके प्रारंभिक करियर में वे एक अर्थशास्त्री, प्रोफेसर और वकील थे। बाद में उनका जीवन पूरी तरह से राजनितिक कामो से भर गया, वे भारतीय स्वतंत्रता के कई अभियानों में शामिल हुए, साथ ही उस समय उन्होंमे अपने राजनितिक हक्को और दलितों की सामाजिक आज़ादी, और भारत को एक स्वतंत्र राष्ट्र बनाने के लिए अपने कई लेख प्रकाशित भी किये, जो बहोत प्रभावशाली साबित हुए। 1956 में उन्होंने धर्म परिवर्तन कर के बुद्ध स्वीकारा, और ज्यादा से ज्यादा लोगो को इसकी दीक्षा भी देने लगे।

1990 में, मरणोपरांत आंबेडकर को सम्मान देते हुए, भारत का सबसे बड़ा नागरिकी पुरस्कार, “भारत रत्न” जारी किया। आंबेडकर की महानता के बहोत सारे किस्से और उनके भारतीय समाज के चित्रण को हम इतिहास में जाकर देख सकते है।

Read : Dr Br Ambedkar Thoughts

एक नजर में बाबासाहेब अम्बेडकर की जानकारी – Dr BR Ambedkar in Hindi

1920 में ‘मूक नायक’ ये अखबार उन्होंने शुरु करके अस्पृश्यों के सामाजिक और राजकीय लढाई को शुरुवात की।

1920 में कोल्हापुर संस्थान में के माणगाव इस गाव को हुये अस्पृश्यता निवारण परिषद में उन्होंने हिस्सा लिया।

1924 में उन्होंने ‘बहिष्कृत हितकारनी सभा’ की स्थापना की, दलित समाज में जागृत करना यह इस संघटना का उद्देश था।

1927 में ‘बहिष्कृत भारत’  नामका पाक्षिक शुरु किया।

1927 में महाड यहापर स्वादिष्ट पानी का सत्याग्रह करके यहाँ की झील अस्प्रुश्योको पिने के पानी के लिए खुली कर दी।

1927 में जातिव्यवस्था को मान्यता देने वाले ‘मनुस्मृती’ का उन्होंने दहन किया।

1928 में गव्हर्नमेंट लॉ कॉलेज में उन्होंने प्राध्यापक का काम किया।

1930 में नाशिक यहा के ‘कालाराम मंदिर’ में अस्पृश्योको प्रवेश देने का उन्होंने सत्याग्रह किया।

1930 से 1932 इस समय इ इंग्लड यहा हुये गोलमेज परिषद् में वो अस्पृश्यों के प्रतिनिधि बनकर उपस्थिति रहे। उस जगह उन्होंने अस्पृश्यों के लिये स्वतंत्र मतदार संघ की मांग की। 1932 में इग्लंड के पंतप्रधान रॅम्स मॅक्ड़ोनाल्ड इन्होंने ‘जातीय निर्णय’ जाहिर करके अम्बेडकर की उपरवाली मांग मान ली।

जातीय निर्णय के लिये Mahatma Gandhi का विरोध था। स्वतंत्र मतदार संघ की निर्मिती के कारण अस्पृश्य समाज बाकी के हिंदु समाज से दुर जायेगा ऐसा उन्हें लगता था। उस कारण जातीय निवडा के तरतुद के विरोध में गांधीजी ने येरवड़ा (पुणे) जेल में प्रनांतिक उपोषण आरंभ किया। उसके अनुसार महात्मा गांधी और डॉ. अम्बेडकर बिच में 25 डिसंबर 1932 को एक करार हुवा। ये करार ‘पुणे करार’ इस नाम से जाना है। इस करारान्वये डॉ. अम्बेडकर ने स्वतंत्र मतदार संघ की जिद् छोडी। और अस्पृश्यों के लिये कंपनी लॉ में आरक्षित सीटे होनी चाहिये, ऐसा आम पक्षियों माना गया।

1935 में डॉ.अम्बेडकर को मुंबई के गव्हर्नमेंट लॉ कॉलेज के अध्यापक के रूप में चुना गया।

1936 में सामाजिक सुधरना के लिये राजकीय आधार होना चाहिये इसलिये उन्होंने ‘इंडिपेंडेंट लेबर पार्टी’ स्थापन कि।

1942 में ‘शेड्युल्ट कास्ट फेडरेशन’ इस नाम के पक्ष की स्थापना की।

1942 से 1946 इस वक्त में उन्होंने गव्हर्नर जनरल की कार्यकारी मंडल ‘श्रम मंत्री’ बनकर कार्य किया।

1946 में ‘पीपल्स एज्युकेशन सोसायटी’ इस संस्थाकी स्थापना की।

डॉ. अम्बेडकर ने घटना मसौदा समिति के अध्यक्ष बनकर काम किया। उन्होंने बहोत मेहनत पूर्वक भारतीय राज्य घटने का मसौदा तयार किया। और इसके कारण भारतीय राज्य घटना बनाने में बड़ा योगदान दिया। इसलिये ‘भारतीय राज्य घटना के शिल्पकार’ इस शब्द में उनका सही गौरव किया जाता है।

स्वातंत्र के बाद के पहले मंत्री मंडल में उन्होंने कानून मंत्री बनकर काम किया।

1956 में नागपूर के एतिहासिक कार्यक्रम में अपने 2 लाख अनुयायियों के साथ उन्होंने बौध्द धर्म की दीक्षा ली।

बाबासाहेब आंबेडकर के बारे में ऐसे तथ्य, जिन्हें शायद ही आप जानते हो – Unknown interesting facts about Bbasaheb Ambedkar

  • बाबासाहेब आंबेडकर अपने माता-पिता की 14 वी संतान थे।
  • अपने भाइयों-बहनों मे अंबेडकर ही स्कूल की परीक्षा में सफल हुए।
  • डॉ. आंबेडकर के पूर्वज ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना में कार्यरत थे।
  • डॉ. आंबेडकर का वास्तविक नाम अम्बावाडेकर था। लेकिन उनके शिक्षक महादेव आंबेडकर को उनसे काफी लगाव था, इसीलिए उन्हें बाबासाहेब का उपनाम ‘अम्बावाडेकर’ से बदलकर ‘आंबेडकर’ रखा।
  • मुंबई के सरकारी लॉ कॉलेज में वे 2 साल तक प्रिंसिपल के पद पर कार्यरत भी रह चुके है।
  • डॉ. आंबेडकर भारतीय संविधान की धारा 370 के खिलाफ थे, जिसके तहत भारत के जम्मू एवं कश्मीर राज्य को विशेष राज्य की पदवी दी गयी थी।
  • विदेश में जाकर अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि पाने वाले आंबेडकर पहले भारतीय थे।
  • 14 अक्टूबर 1956 को विजयादशमी के दिन डॉ. आंबेडकर ने नागपुर, महाराष्ट्र में अपने 5 लाख से भी ज्यादा साथियों के साथ बौद्धधर्म की दीक्षा ली।
  • डॉ. आंबेडकर ने एक बौद्ध भिक्षु से पारंपरिक तरीके से तीन रत्न ग्रहण और पंचशील को अपनाते हुये बौद्ध धर्म ग्रहण किया। बौद्ध-संसार के इतिहास में इसे सुवर्णाक्षरों में लिखा गया।
  • डॉ. आंबेडकर को डायबिटीज की बीमारी से लम्बे समय तक जूझना पड़ा था।
  • भारत के राष्ट्रीय ध्वज में अशोक चक्र को जगह देने का श्रेय भी डॉ. अम्बेडकर को जाता है।

Br Ambedkar Book’s – किताबे :

  • हु वेअर शुद्राज?,
  • दि अनरचेबल्स,
  • बुध्द अॅड हिज धम्म,
  • दि प्रब्लेंम ऑफ रूपी,
  • थॉटस ऑन पाकिस्तान आदी.

Br Ambedkar Awards – पुरस्कार : 1990  में ‘बाबा साहेब’ को देश के सर्वोच्च सम्मान ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया।

Br Ambedkar Death – मृत्यु : 6 दिसंबर 1956 को लगभग 63 साल की उम्र में उनका देहांत हो गया।

जिस समय सामाजिक स्तर पर बहुजनो को अछूत मानकर उनका अपमान किया जाता था, उस समय आंबेडकर ने उन्हें वो हर हक्क दिलाया जो एक समुदाय को मिलना चाहिये। हमें भी अपने आसपास के लोगो में भेदभाव ना करते हुए सभी को एक समान मानना चाहिये। हर एक इंसान का जीवन स्वतंत्र है, हमें समाज का विकास करने से पहले खुद का विकास करना चाहिये। क्योकि अगर देश का हर एक व्यक्ति एक स्वयं का विकास करने लगे तो, हमारा समाज अपने आप ही प्रगतिशील हो जायेंगा।

हमें जीवन में किसी एक धर्म को अपनाने की बजाये, किसी ऐसे धर्म को अपनाना चाहिये जो स्वतंत्रता, समानता और भाई-चारा सिखाये।

और अधिक लेख :

Note : आपके पास Dr. Bhimrao Ambedkar history in Hindi मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे।
अगर आपको हमारी Dr. Br Ambedkar in Hindi अच्छी लगे तो जरुर हमें Facebook और WhatsApp पर Share कीजिये।
Note : Email subscription करे और पायें essay on Dr Bhim Rao Ambedkar in Hindi आपके ईमेल पर।

230 COMMENTS

  1. Jai bhim jai bharat mai Baba Saheb ko God manta hu Maine Suna hai ki baba SAHEB ki dusri sadi Indira Gandhi she hui thi kya ye such hai

  2. Bharat ke tirange par ‘ashok chakr’ ye baba sahab ki sabse achi vichar dhara thi
    Jai bhim ‘ Dr BaBa Saheb ambedkar’

  3. kya ambedkar ji bodh dharm apnane se pehle kis dharm ko mante the
    aur agar wo hindu dharm ko mante the to kis devi ya devta ko mante the

  4. I have so proud of baba saheb because of in 1920, 1926, 1946 the people of indian thought was very unreliable and poor Baba saheb was first doctoret degree in india. he had so many education. therefore political people was not agree in thought I am so very unhappy

  5. Love you dr. Bhimrow Ambedkar dosto ye sab pad ke achha laga aur bahoot si jankari bhi mili

  6. Ham logo ko Dr.baba sahab ke btaye huge adrso pe chalke apne samaj ko bdlna ar age le jna hai .to sabhi ko pahdhna hai ache se age jna hai apne samaj ki ijjat ke liye

  7. Khato to ghas aani gheto to shwas Baba fakt tumchy mude vishvratny bhimrav ramji ambedkar ,yugpurush, arthshastri,

  8. no wordsssssss for
    DR. BHEM RAO RAM JIIII AMBEDKAR

    SHYAD AAJ KAY TIME MAI AGAR HUM SIRF UNKE BAATO PAR AMLLLL KARE TO HUM HMARE PURE LIFE EASILY KAR SAKTE H

    HUME GARV H KIIII AAJ HUME JO KUCH BHIIII H BUS UNHE KIIII WJH SAY H…….

    UNITY OF SYMBOL
    AAPKO SATHHH SATHHH NAMAN

    REST IN PEACE

  9. Hume gurv h ki hume loge bharat kay nivashi h.
    parm pujniya dr. bhem rao Ram ji. sir hand’s off to you.

    pta nahi ku aaj bhi eshe villegers h jinky maan mai bhut saari galat fhemiya h ek eshe legen person kay liye…….

    jinhone apny jaati kay liye he nahi balki sabhi kay liye socha
    like.

    employe pf fesility provided
    women’s free freedom

    sir aapko sath sath naman

    sirf ek video deekhne kay baad unke liye hmare respect or bhi bd gye h.

    your cherish of our eyes

    unity of symbol

    jai bhem jai bharat

  10. SABHI KO PARAMPUJYA BABA SAHEB DR.B.R.AMBEDKAR KI 126 WE JAYANTI KI HARDIK SHUBHKAMNAYEN! BABA SAHEB NE KAHA THA KI SHIKSHIT BANO SANGTHIT RAHO SANGHARSH KARO HAME ISI AADHAR PER CHALNA CHAHIYE.BABA SAHEB NE KAHA THA KI YADI MISSION KO AAGE NAHI BADA SAKTE TO PICHE MAT JANE DENA.HUM LOGON KO KISI KE BAHKANE ME NAHI AANA CHAHIYE AUR APNE MISSION SE BHATKANA NAHI HAI.KUCH BHI HO JAYE.AAJ HUM SABHI KO JO AAJADI MILI HAI PARAMPUJYA BABA SAHEB KI DEN HAI.
    AAP SABHI SE MERA VINMRA NIVEDAN HAI KI BABA SAHE,BHAGWAN GAUTAM BUDDH,MAHATMA JYOTIBA FULLEY,NARAYAN GURU ETC. KE HONE WALE PROGRAMME ME ADHIK SE ADHIK SANKHYA UPSTHIT HONE KA KASHT KARYEN.
    JAI BHIM NAMO BUDDHAY JAI BHARAT

  11. Dr.Baba saheb ambedkar ke jnmdin ke pawn awsr 14 april ko sbhi sathiyo ko hardik bdhai.jai bheem
    Dr.baba saheb ambedkar amr rhe amr rhe

    • अनिल कुमार जी,

      आपकी बात बिलकुल सही हैं। लेकिन् अब बाबा साहेब सिर्फ् भारत तक ही सिमित नहीं हैं, पुरीं दुनिया उन्हें मनाने लगी हैं।

  12. Kar gujar gyr WO bheem the
    Duniya ko jagane wale bhim the
    Humne to surf itihass padha hai yaro
    Itihass ko banane wale bhim the
    Jai bhim

  13. संविधान निर्माता,युग पुरुष,बोधिसत्व सामाजिक समानता के जननायक पूज्य डॉ0 बी0 आर0 अम्बेडकर जी की जयंती पर उन्हें हार्दिक श्रद्धांजलि और शत शत नमन। उनके कालजयी प्रेरणादायी विचारों को नमन ।

  14. शिक्षा बीए., एमए., पीएच.डी., एम.एससी., डी. एससी., एलएल.डी., डी.लिट., बार-एट-लॉ (कुल ३२ डिग्रियाँ अर्जीत)
    विद्यालय मुंबई विश्वविद्यालय, भारत
    कोलंबिया विश्वविद्यालय, अमेरिका
    लंदन विश्वविद्यालय, यु. के.
    लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स, यु. के.
    बर्लिन विश्वविद्यालय, जर्मनी
    Uprokt mahamanav Dr.baba saheb ambedakar ki sari deegriez hai.
    Unke bare me jitna bhi likhe utna kam hoga. Baba saheb agar aap na note to hamara kya hota pure bharat ke patit aur din hino ka uddhar na hota .
    Sat sat pranam baba saheb
    Dil se jay bhim

    • Rakesh k. Parghi ji,

      बाबासाहेब अम्बेडकर जी के बारे में काफी अच्छी और महत्वपूर्ण जानकारी दी आपने, बाबासाहेब अम्बेडकर जी का एजुकेशन से रिलेटेड यह जानकारी सभी के लिये महत्वपूर्ण हैं और आपके इस कमेन्ट के माध्यम से सब के पास पहुचेंगी.

  15. बाबा साहब डॉ भीम रॉव आंबेडकर विश्व के ऐकलवते महान् विद्वान थे । जो इनके जैसा वर्तमान में दूसरा विद्वान कोई पैदा नही हुवे है। मुझे बाबा साहब पर गर्व है। जय भीम

    • Ranjan Ravi sir,

      आपने जो कहा बाबा साहेब के बारे में बिलकुल सही हैं.. में उसमें थोडा और जोड़ना चाहूँगा. बाबा साहब डॉ भीम रॉव आंबेडकर जैसे विश्व में दूसरा विद्वान, महामानव कभी पैदा नहीं होंगे. जय भीम

  16. baba saheb ko mera st st naman jinohne is samaj ke liye apna sara jeewan samarpit kr diya so I am proud to be a chamar

  17. बाबा साहिब को कोटि कोटि सहृदय धनयवाद धनयवाद सादर पृणाम

  18. BABA SHAB ek mahan admi the
    un se mahan admi n to tha n hai or n hoga
    inko marne ki ucch varn valo ki chal thi

  19. sabse pehle BABA SAHEB ko naman bhai logo aap sab ka baba saheb ke perti sneh dekh kar bahut achchha lga lekin sneh dikhakar comment kar ne se kaam ni chalega baba saheb ne pure desh ke liy bahut kiya unhone har gareeb ko insaaf mile iske liy bahut kiya unka jitna dhanne baad kiya jay kam hi kam bhai logo ham jante h ki aaj bhi bhed bhao h desh me isliy baba saheb ke sangharso ko aage badana hoga unka jo kaam aadhura rehgaya h me chahata hu ki ab unke is kaam ko aage badaya jay iske liy ham sab ko ek hona hoga or baba saheb ke sangharso ko aage badana hoga agr bhai logo aap sab meri baat se sehemat h to meri (gmail id par msg kare mene iske pura stecture bana rakha h bs aap sb logo ke saiyog ki jarut h iske liy mene party ka naam bhi soch rakha jiska naam hoga ( Bheem rao ambedker ekta party ) me bada krta hu ki Jo baba saheb chahate the use pura ham kar dege baba saheb ke sapne mere sapne ki bharat desh ke har ek nagrik ko sutantarta mile meri (gmail id h [email protected]

  20. Dr babasaheb is great social worker in india

    Asman me tare bohot hei lekin chand jeesa koi nani
    Bharat me samaj sudharak bohot lekin ambedkar
    jeesa koi nahi

    we are because hi was

  21. Sir mera nam monu dhirana h sir muje aap se kuch pta kar na h sir me chamar ho sir me gurgaon me jop kar tha ho sir agr muje se koi meri cast puche to kya muje apni cast chupani chaye ya bta deni chaye

    • vishal ji,

      अपने बिलकुल सही कहा बाबा साहेब आंबेडकर महान विद्वान् थे जिन्होंने हमारे देश का सविधान बनाया। हम सब भारतीयों के को बाबा साहेब पर गर्व होना चाहिये। बाबासाहेब सदियों के महामानव हैं और रहेंगे।

  22. BABA BHIM RAO dALITO YA HAMARE LIYE BHAGVAN H AUR HMARE JEEVN ME JO BHEE KUCHH ES SAMY H JAISE KI HAM BINA KISEE KE ROK TOK KE JAHA CHAHE JA SAKTE JO CHAHE PEE SAKTE KHA SAKTE H BINA KISE KE GULAM KE KE HUME PADNE LIKHNE KA PURA ADHIKAR H JO KEVL BABA BHIM RAO JEE KE VAJH SE SAMBHV HUAA H ESLIYE HAMRE BHAGVAN KEVL BABA SAHB JE H AUR ES DUNIYA ME KOE NAHEE H LEKIN MUJHE HASEE ATEE JAB LOG ANEK DEVI DEVTO KO PUJTE JO KI HAMARE LIYE KABHEE NAHEE KUCHH KIYE
    LOG BABA SAHB KO NAHEE BALKI MATEE KE MURTIYO KO PUJTE JO KI GALT H BHIE LOG ESKO SAHEE KARNA H

  23. jay ho aise mahan mahatma ki sach me Dr.Br. ambedkar koi mamuli mahatma nahi hai bah to bhagvan ka avtar hai jay bheem jay bharat

  24. thanks a lot for posting these type of biographies and educational thinks
    The time of our country which going on people know only what we have to do on ambedkar jayanti they never try to follow the rules and morals of the br ambedkar baba

  25. jay bhim namo buddaye i am sapnesh barwar mai aap logo so ye kahna chahta hu ki agar bhimrao amedkar nahi hote to hame ye waran wawestha ke anusar chalna parta or hamara sosan hota hamare shath durwevhar kiya jata but jab baba sheb ne manusamrti ko jalaya uski bad me hame thori ajadi mili mai apse kahna chata hu baba sheb ne hame jeena sikhaya hame ajad karaya hame hamara hak dilaya hame wo sab adhikar dilaye jo hame milne chahiye ham ek sawtantar nagrik hai or bhim rao ne hame sawtantar kiya hame paani pine ka adhikar nahi the hame paani pine ka adhikar dilaya hame padne ka adhikar nahi tha hame padne ka adhikar dilaya hamare liye baba sheb ne apne biwi bacche kho diye hamare liye apana sara jeevan daw par laga diya likin gor karne ki ye bat hai ki hame baba sheb ko kya diya soch ke dekhna or phir jawab dena mere dosto

    jay bhim namo budhaye

    sapnesh barwar

  26. Baba Saheb ke charno me shat-shat naman,
    Baba saheb ne jo hame & hamare Desh ke liye kiya shayad hi koi karta ya kar sakta tha ,
    Aaj ham jo bhi hai. Unnhi ke badaulat Hai ,

  27. सही मायने में देश के असली हीरो
    डॉक्टर भीमराओ अम्बेडकर

  28. apki vaani me Vo asar Paida karo
    har rukh badal de hwao ka Wo hunner paida kro
    agar swaman se jeena h Bharat desh Me to ghar ghar me baba saheb paida kro.
    Jay bhim

  29. B.R.ambedkar g ne hmare liye vo kr dikhaya jo hm kbhi soche tk nhi the …………..
    I like history &interesting. ….
    “jai bhim jai bharat ” ……
    Hm divine bhim ke

  30. Baba saheb Dr.B.R.Ambedkar is great in the world,but baba saheb ki deth kese hui thi plz btaiyega jrur.baba shab ko sat sat naman jai bheem….

  31. बाबा साहेब का देहांत कैशे हुआ था
    क्या आप ये जानकारी मुझको दे सकते हो
    जय भीम नमो बुद्धाय

  32. hame dnyevad karna chahiye us gyan ki murt ka jinhone apna svarth na dekte huve apna sampoorn jivan Dabe kuchale logo ko ak greema mai givan jine ka adhikar divaya or sampoorn bharat ko gyan ka path pdaya home unke bnaye rasto par chalkar unke dwara dee gai sixa ko age bdana chahiye or hm us sakseeyat kaaabhar prkt kre jiske krmo me falsavrup aag ak duniya ka sabse bda loktantr duniya ke samne apni anekta me akta me like Jana jata hai . hmare aadrs Dr br ambedkr ko sat sat namn .
    jay Bheem jay bharat

  33. Ami Bhima chi sari por,naka samju amha kamjor jarka adva yeil koni Bhim shakti che paju pani.jai Bhim bola jai Bhim,jai Bhim bola jai Bhim.

  34. Jai Bhim,koti koti pranam,hamare liye baba ne etna kiya jiski hum ginti bhi nahi kar sakte,aaj Jo sabko pf milta hai aur aurat purusho ke kandhe ko kandya milakar sub shtra me hai wo hamare babasaheb ki den hai.muje ek hi kahna hai agar hamare baba ka koi bhi historical place hai jin vastu vo ko ya unke sare books ho es sabka ek baba ke nam se museum hona chahiye jaha log jate hi baba ki har ek chij unhe dhukni chahiye yahi nivedan aap sab se karta hu.

    Jai Bhim, jai Buddha, jai Bharat ratna”

  35. Ambedkar ek dalito ke liye bhagwan bankar paida huye Jo majusmriti
    Ko aag ke hawale karke hum logo Ka huk dilaye
    (jai bhim )

  36. itna struggle karna bahut badi baat hai.dr.bheem rao ambedker ji ne ye sab kasht uttaye or logo ko ek bada etihaas diya
    It is incredible.jo unhone karke dikhaya.mein to yahi kahunga ki jai bheem.i liked this biography.

  37. बाबा साहेब का देहांत कैशे होआ था
    क्या आप ये जानकारी मुझको दे सकते हो
    जय भीम नमो बुद्धाय

  38. इस भारत देश को बाबा साहेब ने बहुत कुछ दिया है आज अगर हमारी माँ बहने पड़ लिख पति है या पिताजी की दौलत में महिला वोको हिसा मिलता है तो ये सारे अधिकार सिर्फ और सिर्फ बाबा साहेब की देन है लेकिन मुझे हँसी तब अति है जब महिला दिवस होता है तब गली गली में महिलाएं महिला दिवस मानती है लेकिन बाबा साहेब का नाम कही पर भी नहीं लेती ये सचमे एक सर्मजनक बात है बाबा साहेब वो सख्सियत थे जिनने हम द्रविड़ो को गुलामी से आज़ाद करवाया इन सुवर्णो के हाथोंसे ई लव यू बाबा साहेब जय भीम जय भारत

  39. I salute of Dr bhim rao…. He was grt men… Mai khud sc category se hu n mera janam bhi 14 April ko hua h n mai inse inspire hu mere mata peeta bhi chahte h mai inke trah bnnu n mai bhi apne iss jivan me ek successful insaan bnnu…. Jai bhim

  40. Dr.sahib hamare liye prmatma hai or rhe ge lakn hum uske oosulo or unke sangharsh or sc logo k
    liye kiye jatno ko aage tak le K jaye ,jai bheem

  41. Dr. Bhimrow Ambedkar ne hamare liye unka pura jiwan sangharsh se judaya our o usme safal bhi huye unki wajhase me aaj garwse is samaj ke sath keh sakti hu Jay Bhim…

  42. BR AMBEDKAR
    a great person in Indian history
    hum inke btaye raste pr chalkar apne samaj ka aur apne desh ki raksha karenge

  43. aise mahapurush roj roj nahi aate hajaro salo me koi ek aad hi aata he dosto ham sab ambedkar to nhi ban sakte par unke btaye rashte par chal sakte he padho aage badho

  44. Aaj mai sabhi sc sathiyo se kahna chahta hu ki unhone sirf apne liye nahi jiya balki poore samaj ke liye jiya poore bharat ko badal diya aur humare nuakri karne wale sc bhai ye bhul gaye ki unhe yah naukri baba saheb ke chalte mila hai jay bheem jay bharat

  45. Dr. BR.Ambedkar ko sat sat naman, hme unke Adarsho ko mannachahiye, or unki khi bato ka anusarn karna chahiye, unhone kaha h ki shiksa se hi apka uthan ho sakta h

  46. Baba sahav mahan hai Qki unhone
    apne liye nhi balki
    Daliton aur gareebon ke liye sangharsh kiya !
    Jai Bheem……

  47. जय बाबा साहब बी0 आर0 अम्बेडकर ….बाबा साहब का बस एक ही सपना था की आने वाले सरकार सिर्फ संबिधान को सही ढंग से लागु करें इसी से सभी लोगों को अपना हक मिलेगा

  48. I like it
    कोई भाई मुझे बतायेगा कि इनकी मृत्यु का क्या कारण है जो इसमें नही लिखा गया है

  49. Jai bheem. Baba saheb ke bataye gaye raste hamare liye adars hai,ese apnane se hi hamara kalayan ho sakega.

  50. Good after noon my all friends.
    Babe sheb ka jo bhi insan itihas nhi janta use mar jana chiye.
    Kyu jo anand or high education le rhe hai vo hmari nhi Baba sheb dr bhim raw ambedkar ki den hai .isliye sabhi nojwan sathiyo se nevedan hai apne ghar me baba sheb ki tasveer lgaye .jai bhim jai bhart.
    Baba sheb ne kha rha so sal bhed ki tarhe jine se acha hai ki ek din hi jio par ser ki tareh jio.

  51. sat sat naman hai un Mata pita KO jinhone aise lal KO janam diya…..
    jis lal ne Is desh ke liye itna kiya….
    sat sat naman hai aapko…
    jai hind…
    jai bhim…

  52. Baba bhim rao ambedkar ji ne bhart ki sabhi femals ko sabse adhik adhikar sanvidhan ke dwara dilaiy. He was a real n true son of india.hume baba saheb ji par bahut garve h.

  53. Baba Bhimrao Ambedkar hmesa hamare dilon m rahenge

    Us punye aatma ko Sat Sat naman

    Jai ho Bhimrao Ambedkar ji ki jai

  54. Baba sahab jasa koi nhi ha is duniya me I like you mare baba aap ko koti koti naman jay bhim

  55. paida na hota a mashiha to a khushiyoka silshila na hota! berang rahati a dunaya aashman ka rang nila na hota! jai bhim

  56. dr baba sahab bhim rao ambedkar old and morena time k god sab ko manna chahiy such very true samaj ko tone ki jagah joda h

  57. भीमराव जी अम्बेडकर साहब जी का संपूर्ण जीवन की घटना विस्तार से जानना चाहता हुँ कृपया जानकारी देवे /

  58. Dr.br ambedkar bhart ke mahan purush hai Jo ki ajtak unki barabari karne bala koye nahi hai desh kya videsho main bhi unki barabri nahi karskta jai bheem

  59. Baba saheb aap ke jaysa na koy tha, na koy hai, na rahega.
    Aap ka charitra aur aap ki jevan katha he ham sabhe ke liye ak shiksh hai.
    Aap ko shat shat naman.

  60. Bharat Ratn Babasaheb Ambedkar Ne Apna Sara Jivan Des Ke Liye Arpan Kar Diya, Eaise Mahamanav Ki 125 vi Jayanti Par Sabhi Deshvasiyo Ko Bahot Bahot Shubhkamanaye.

  61. महान महापुरुष थे भीमराव जी अम्बेडकर साहब जी

  62. gyani ji,
    aapne bharatratn babasaheb ambedkar ka jivan parichay bahut hi vistar purvak bataya hain, babasaheb ki jivani ko padhakar sabhi log unse jarur prerna lenge.
    eaise mahapurush, mahamanav, bharatiy rajya ghatana ke shilpkar ko dil se pranam

  63. baba saheb ke baremen bahut achachi jankari di sir aapne,
    mujhe babasaheb ambedkar ki kavita, basaheb ke gane aur babasaheb ke chamtakar janane hain, please aap mujhe ye janane me madat karen.
    aur bhi b.r.ambedkar bareme koyi bhi jankari jaise essay, ambedkar ki speech ho to please apne article me update kare.

  64. that very good, very interesting, and joyful. site is so useful, helpful. jai bheem…………. namo buddhay……..

  65. Dr. Baba saheb ambedkar ke bare me janakari bahut achhi lagi…. Very Good information… I like your site… Please try to add more information… Kyoki baba saheb ke jivan se bahut kuchh sikhane jaisa hai… Apane bahut short janakari di…. Please update…. Your follower

    • Shilpa Ji,

      Jald hi Dr. Br Ambedkar Ki janakari ko update kar diya jayenga… Apaka Bahot Dhanyavad. Hamara facebook page like karana na bhule….

  66. Grate information About Baba Saheb Ambedkar. Thanks for share this.
    Thanks a lot sir. I have gained a lot of knowledge from your website.

    • shilpa ji,

      You can read more article about Bhimrao Ambedkar on Gyanipandit… Go to search bar and type – Ambedkar

      Thanks

  67. hmare baba saheb jaisa koi ni yha log apne liye jite h pr baba saheb to pure desh k liyr jikr chale gae unke jaisa koi ni bn skta jay bheem

  68. DR.B.R.AMBEDKAR KE BINA TO HUM KEWAL JI RAHE THE BALKI JEENE KA ARTH AUR JEEWAN KI GAHRAYEE KO HUMNE UNHEE SE SEEKHA BABA SAHAB KO KOTI KOTI PRANAM .I LOVE BABA SAHEB DOCTOR BHIM RAO AMBEDKAR.

  69. भीमराव अम्बेडकर साहेब से महान इस दुनीयां में और कोई दुसरा अब तक पैदा नहीं हुआ

  70. sch me bhim rao ambedkar ji ne jo kiya h..shyd hi koi kar pata.qki log sirf apne bare me sochte h,lekin unhone pure smaaj me bdlaw ladiya.mere adrsh or mere hiro h vo

  71. Its time of celebrations, Its time to value a special person, Who taught world the lesson of Self ConfidenceIts B R Abmedkar..The Father of Indian Constitution!

    • Comment:sabse pehle BABA SAHEB ka dil abhinandan bhai baba saheb ne to bharat desh liy bahut kuch kr diya baba saheb ne har gareeb ko samman dilane ke liy apna jivan laga diya ab ham kitna baba saheb ke liy karte ye dekhna h aap sab logo ne baba saheb ka aabhinandan kiya muje bahut achchha lga kya itna sab karne kaam chalega nhi bhaiyo ab aaj bhi desh me kitna bhed bhao h ham sab jante h agr baba saheb ka sahi me or dil se mante huy abhinandan krte ho to unke sanghars ko aage badana hoga jab tak ki har gareeb ko ye lagne lge ki desh me jo raam raaj baba saheb lana chahate the bo agya or uske liy ham Sab ko ek saat khada hona hoga AGR meri bato se sehmat h to muje meri gmail id pr comment de mai chahata hu ki ab ham unka sanghars chalu rakhe or har gareeb ke hit ke liy ham aabaaj uthay chahe kisi gareeb ke saat na insafi ho rhi ho uske liy ham aabaaj uthay esi ek kameti bnay jiska naam hoga ( bheem rao ambedkar ekta party) agr aap Sab log sehmat h to aap meri gmail id pr comment kr sakte h dekhte kitne log baba saheb ke sanghars ko. aage badana chahate h jay Bheem jay bharat

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here