Skip to content

गोवा राज्य का इतिहास और जानकारी

Goa History in Hindi

Goa – गोवा का नाम आते ही दिल को छु जाने वाला समुद्र तट और आसमान को छुते हुए नारियल के पेड़ हमारे आँखों के सामने आ जाता हैं। गोवा भारत के सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है। पर्यटकों की यह पसंदीदा जगह है और दुनिया भर से पर्यटक यहां आते हैं।

राज्य में भारतीय और पुर्तगाली संस्कृति का अद्भुत मिश्रण दिखाई देता है और यहाँ की वास्तुकला यात्रियों को आकर्षित करती है। विविध संस्कृति और समुदाय के लोग यहाँ घुमने के लिए आते है।

गोवा राज्य का इतिहास और जानकारी – Goa History in Hindi

राज्य का नाम (Name of The State)गोवा(Goa)
गोवा की राजधानी (Capital of Goa)पणजी(Panaji)
राज्य निर्मिति का साल(State Formation Year)30 मई 1987।
राज्य की प्रमुख भाषाएँ कोंकणी, अँग्रेजी, हिंदी, मराठी।
क्षेत्रफल अनुसार राज्य का देशभर में स्थानअठ्ठाईसवाँ (28th)
जनसँख्या अनुसार राज्य का देश में स्थानछब्बीसवाँ (26th)
राज्य का प्रमुख जानवरगौर (भारतीय भैस)
राज्य का प्रमुख पक्षी (State Bird of Goa)भगवे रंग के कंठ का बुलबुल पक्षी।
राज्य का प्रमुख पेड़ (वृक्ष) (State Tree of Goa)नारियल पेड़।
प्रमुख फूल (पुष्प) (State Flower of Goa)जास्मिन पुष्प।
प्रमुख फल (State Fruit of Goa)काजू।
राज्य का प्रमुख खेल (State Game of Goa)फुटबॉल।
राज्य अंतर्गत कुल जिलों की सँख्या (District in Goa)दो (Two)
राज्य अंतर्गत कुल तालुका (तहसील) की सँख्या बारा (Twelve)
राज्य अंतर्गत कुल ग्रामीण विभाग411
गोवा राज्य अंतर्गत कुल शहरों की सँख्या14
राज्य की कुल जनसँख्या (Population of Goa)14, 58, 545 (साल 2011 के जनगणना अनुसार)
राज्य का साक्षरता दर91.71 प्रतिशत (%)
वित्तीय तथा राज्यों के अनुसार गोवा राज्य की कोड सँख्या (State Code of Goa)30 (Thirty)

 

गोवा राज्य की जानकारी – Goa Information in Hindi

1510 में पुर्तगालियो ने स्थानिक मित्र, तिमय्या की सहायता से सत्तारुढ़ बीजापुर के सुल्तान यूसुफ़ आदिल शाह को पराजित किया। इसके बाद प्राचीन गोवा में उन्होंने स्थायी राज्य की नीव रखी। गोवा में यह पुर्तगाली शासन की शुरुवात थी और यह 1961 के राज्य-हरण तक तक़रीबन 4.5 शताब्दी तक चला।

1843 में पुर्तगाली प्राचीन गोवा से निकलकर पणजी चले गये। 18 वी शताब्दि के बीच में पुर्तगाली गोवा वर्तमान राज्य की सीमा तक विकसित हो चूका था। साथ ही भारत में जबतक उनकी सीमा स्थिर होती तबतक वे भारत के दुसरे स्थानों से अपने अधिकारों को खो चुके थे और पुर्तगाली भारतीय राज्य की स्थापना की गयी, जिसमे से गोवा विशालतम प्रान्त था।

Goa History in Hindi

Goa History in Hindi

1947 को भारत जब ब्रिटिशो की गुलामी से आज़ाद हुआ तो भारत ने पुर्तगाली प्रांतो से भारतीय उपमहाद्वीप को भारत को सौपने की मांग की। पुर्तगाल ने भी अपने भारतीय परिक्षेत्रो की संप्रभुता पर बातचीत करने से इंकार कर दिया। 19 दिसंबर 1961 को विजय के नेतृत्व में भारतीय सेना ने आक्रमण किया गोवा और दमन एवं द्वीप को भारतीय संघ में शामिल कर दिया।

दमन एवं द्वीप के साथ गोवा को भारतीय संघ के केंद्रशासित प्रदेश में शामिल कर लिया गया। 30 मई 1987 को केंद्र शासित प्रदेश को विभाजित कर दिया और गोवा को भारत का 25 वा राज्य बनाया गया। जबकि दमन एवं द्वीप आप भी भारत के केंद्रशासित प्रदेश में शामिल है।

गोवा राज्य के जिले – Districts Of Goa State

क्षेत्रफल की दृष्टी से गोवा राज्य भारत का छोटा राज्य है, जिसके अंतर्गत मात्र दो जिले आते है जैसे के उत्तर गोवा और दक्षिण गोवा। प्रशासन के हिसाब से इन दोनों जिलों के अंतर्गत छह तहसील मौजूद है इस प्रकार गोवा राज्य में कुल १२ तहसील मौजूद है तथा कुल ४११ ग्रामीण विभाग भी मौजूद है।

गोवा राज्य की प्रमुख नदियाँ – Rivers in Goa State

  1.  झुअरी नदी
  2. साल नदी
  3. चपोरा नदी
  4. मांडवी नदी
  5.  तेरेखोल नदी
  6.  मापुसा नदी

गोवा राज्य की भाषा – Language of Goa state

यह बहुभाषी राज्य है भारत और विदेशों में गोवा में रहने वाले विभिन्न क्षेत्रों, जातीय जातियों और धर्मों के लोग होने के नाते, उनकी भाषा भी तदनुसार प्रभावित हुई। इसलिए, गोवा में इस्तेमाल की जाने वाली भाषाओं की कुल संख्या अंग्रेजी, मराठी, पुर्तगाली, हिंदी और कोंकणी है। कोंकणी, हालांकि, गोवा की आधिकारिक भाषा है कोंकणी देवनागरी लिपि में लिखी गई है राज्य में बोली जाने वाली अन्य प्रमुख भाषाएं मराठी, कन्नड़ और उर्दू हैं। गुजराती और हिंदी भी राज्य में काफी संख्या में बोलते हैं। स्कूलों में मराठी भी व्यापक रूप से पढ़ाया जाता है।

गोवा राज्य की संस्कृति और परंपरा – Culture And Tradition Of Goa

इस राज्य की संस्कृति विशेषतः हिन्दू और कैथोलिक जनसँख्या में विभाजित है। लोग दोनों ही संस्कृतियों का सम्मान करते है। हवाई और रेल मार्ग से जुड़ा हुआ होने के कारण, यहाँ पडोसी राज्य के लोग भी आते है। भारत के दुसरे राज्यों से आए हुए नये लोग भी यहाँ रहने लगे है।

गोवा के कैथोलिक धर्म के लोग हिन्दू संस्कृति का सम्मान करते है और साथ ही हिन्दू रीती-रिवाजो को भी अपनाते है। दोनों ही धर्म के लोगो के बीच का प्यार यहाँ देखा जा सकता है। राज्य में बहुत सी जगहों पर हिन्दू धर्म के मंदिर भी बने हुए है, जहाँ हिन्दू धर्म के देवताओ की मूर्तियाँ भी स्थापित की गयी है।

स्वतंत्रता पूर्व काल में भारत में व्यापारिक दृष्टी से आये अँग्रेज, पोर्तुगीज, डच लोगो का भारत में शुरुवाती दिनों में कुछ विशिष्ट जगह पर बसेरा था, इसमें पोर्तुगीज तथा डच लोगो का गोवा व्यापारिक तथा निवास का प्रमुख केंद्र स्थान था।गोवा के आम जीवन और जोवनशैली पर मुख्यतः ख्रिश्चन, हिन्दू संस्कृति का प्रभाव अधिक दिखाई पड़ता है, हालांकि अन्य धर्मिय लोग भी राज्य अंतर्गत पाए जाते है।

यहाँ के प्रार्थना स्थलों में मुख्यतः चर्च, मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा भी मौजूद है, जिसके अनुसार राज्य में सभी धर्म के त्यौहार भी मनाए जाते है। देश और दुनिया में गोवा की खास पहचान है यहाँ के सुंदर पर्यटन स्थलों के वजह से, जहाँ पर सदियों से विभिन्न देश से पर्यटक आते है इसलिए पश्चिम की संस्कृति का भी प्रभाव यहाँ अधिक देखने को मिलता है।

कोंकणी परंपराओं से भी गोवा का करीबी नाता है, इसलिए नारियल पूर्णिमा का त्यौहार भी यहाँ मनाया जाता है।कुल मिलाके एक खुश मिजाज, अतिथि देवो भव की संस्कृति का दर्शन गोवा में होता है, क्योंकि इस राज्य का सबसे बड़ा आर्थिक स्त्रोत पर्यटन पर निर्भर है।

गोवा राज्य की संगीत और नृत्य कला – Music and Folk Dance in Goa State

भारत में गोवा विदेशी पर्यटकों का पसंदीदा स्थान मान जाता है, जहाँ पर सालभर में विभिन्न देशो से लोग आते है इसका प्रभाव यहाँ के संगीत पर भी देखने को मिलता है जिसमे पॉप संगीत, ड्रम, हिप हॉप, रॅप गीत, पोर्तुगाली संगीत इत्यादि का काफी प्रचलन हुआ है जिसके लिए वायलिन, गिटार, ट्रम्पेट, पिआनो आदि वाद्यों का इस्तेमाल किया जाता है।

भारतीय शास्त्रीय संगीत के साथ कोंकणी गीत, कोली गीत को भी यहाँ खास तौर पसंद किया जाता है जहाँ पर मछवारों के समुदाय द्वारा इन गीतों को अधिक पसंद किया जाता है इन गीत संगीत के लिए मृदंग, तबला, ढोल, बांसुरी, शहनाई, ढोलक इत्यादि संगीत वाद्यों का इस्तेमाल होता है।

हिन्दुओ में मौजूद विभिन्न जनजातियों का भी यहाँ कुछ मात्रा में अधिवास है जैसे के धनगर, कोली, भोई आदि जनजाति के पारंपारिक गीत संगीत राज्य अंतर्गत आम तौर पर सुने और पसंद किये जाते है। बात करे नृत्य की तो राज्य में दिवाली नाच, गोफ, द डेलो नाच, घोड़े मोदनी, मांडो, देखनी नृत्य, धनगर नृत्य, टोनीमेल, मोरुलेम, कोरेडिन्हो, कुनबी नृत्य, मुसोल नच, जागोर, भोंवादो, तलगड़ी इत्यादि शामिल होते है।

गोवा के प्रमुख धर्म – Religion in Goa State

संपूर्ण राज्य में ख्रिश्चन और हिंदू धर्म के लोग अधिक संख्या में पाए जाते है, लगभग पुरे गोवा में इन दोनों धर्मो के लोगो का अधिवास है इसके अलावा बुध्द, सिख, मुस्लिम, पारसी इत्यादि धर्मीय लोगो की संख्या कम मात्रा में दिखाई पड़ती है जिन्हे अल्पसंख्यक भी कह सकते है।

गोवा राज्य का प्रमुख भोजन – Staple Food in Goa State

चावल और फिश करी गोवा का मुख्य आहार है। गोवा के व्यंजन विविध प्रकार की मछलियों और मसालेदार स्वाद के लिए प्रसिद्ध है। गोवा के खाद्य पदार्थो में काली मिर्च, मसाले और विनेगर के सात-साथ ज्यादातर नारियल और नारियल के तेल का उपयोग किया जाता है।

गोवा राज्य को प्रचुर तौर पर नैसर्गिक समुद्री किनारा मिला हुआ है तथा सालभर में पर्यटकों का राज्य में आना जाना लगा रहता है इसके वजह से यहाँ पर भारतीय पकवानो के साथ कॉन्टिनेंटल भोजन प्रकारों की भी काफी ज्यादा मांग रहती है जिसमे चायनीज, श्रीलंकाई, मलेशियाई, पोर्तुगाली, ब्राज़ील, यूरोपीय आदि देश के पकवानो को आम तौर पर खाया जाता है।

कोंकणी खानपान के साथ केरल, दीव, दमन, मालाबार इत्यादि प्रांतो के खानपान भी यहाँ पाए जाते है जिसमे सलाद, अचार, करी, सुप, फ्राईज इत्यादि प्रमुखता से शामिल होते है।

सी फूड्स में यहाँ मछली, झींगे, केकड़े, नारियल से बने पकवान खाये जाते है, जिसमे चावल और काजू भी यहाँ का पसंदीदा खानपान है।मांस के प्रकारो में चिकन करी, चिकन बिरयानी, मटन करी इत्यादि भी मनपसंदीदा व्यंजनों में शामिल है, अन्य सब्जियों में टमाटर, कद्दू, ऑर्बजिन, कटहल इत्यादि का प्रयोग किया जाता है।

फल आहार में मुख्यतः काजू, पपीता, अनानस, अमरुद इत्यादि का इस्तेमाल किया जाता है, मद्य का सेवन भी इस राज्य में अधिक मात्रा में किया जाता है ।

गोवा राज्य के लोगो की वेशभूषा – Dress/Costume of Goa State Peoples

राज्य में महिलाओ का प्रमुख परिधान साड़ी होता है जिसमे कुनबी पल्लू यहाँ खास तौर पर शामिल होता है, महाराष्ट्र राज्य की तरह यह भी कुछ मराठी महिलाओ में लुगड़ी पहनने का प्रचलन है जिसमे ब्लाउज और लुगड़ी तथा नाक में नथनी पहनी जाती है।

साड़ियों में नववारी साड़ी पसंदीदा तौर पर पहनी जाती है, इसके अलावा पानो भाजु नामक की विशिष्ट परिधान भी यहाँ के महिलाओ द्वारा पहना जाता है। वही यहाँ के पुरुषो में प्राथमिक तौर पर सूती के कपड़ो को अधिक महत्व दिया गया होता है जिसमे शर्ट, टी शर्ट, साधा पैंट तथा जींस आदि पैंट को आम तौर पर पहना जाता है।

शादी वगैरह जैसे मौको पर कोट सूट इत्यादि को भी पहना जाता है, यहाँ के महिला और पुरुषो में आधुनिकता के इस युग में अधिकतर पश्चिमी पद्धति के कपड़ो को पहनने का प्रचलन अधिक तौर पर दिखाई देता है।

गोवा राज्य के प्रमुख त्यौहार – Festivals of Goa State

गोवा में मेले और त्यौहार वास्तव में शहर के रहने वालों के साथ-साथ मनोरंजक समुद्र तट शहर के आगंतुकों के लिए एक ताज़ा अनुभव है। गोवा में विभिन्न त्योहारों और घटनाओं को सभी धूमधाम और शो के साथ मनाया जाता है।

सबसे लोकप्रिय मेले और त्योहारों की लंबी सूची में मानसून महोत्सव गोवा, गोवा में क्रिसमस और नए साल का समारोह और तीन राजा पर्व के महोत्सव शामिल हैं। गोवा क्रिसमस समारोह और नए साल की समारोह दुनिया के प्रसिद्ध हैं और दुनिया भर के लोग आते हैं और इन यादगार क्षणों का आनंद उठाते हैं। सबसे अधिक प्रतीक्षित गोवा कार्निवल फेस्टिवल होता हैं।

गोवा विश्व प्रसिद्ध कार्यक्रमों का कार्निवल भी है। रंग-बिरंगी मास्क और नाव, ड्रम और प्रतिवर्ती संगीत और नृत्य प्रदर्शनों के साथ यहाँ बहुत से कार्यक्रमों का आयोजन वैश्विक स्तर पर किया जाता है। वर्षा ऋतु के आगमन के साथ ही प्रकृति गोवा को कुछ ऐसा ही अलग, लेकिन अदभुत स्वरूप प्रदान करती है।

राज्य अंतर्गत सालभर में आनेवाले लगभग सभी प्रमुख त्योहारों को मनाया जाता है जैसे केईद, दिवाली, नारियल पूर्णिमा, दशहरा, बुध्द पूर्णिमा, होली,गणेश चतुर्थी, नवरात्री इत्यादि।

तथा कुछ अन्य त्यौहारों में गोवा के स्थानिक त्यौहार भी शामिल है जैसे के बॉनडरम फेस्टिवल, सेंट फ्रांसिस जेवियर पर्व, गोवा हेरिटेज फेस्टिवल, अंगूर महोत्सव, शिमगो महोत्सव, मोंटे संगीत महोत्सव, साओ जोआओ महोत्सव, सप्त महोत्सव इत्यादि।

यह स्थान शांतिप्रिय पर्यटकों और प्रकृति प्रेमियों को बहुत भाता है। गोवा एक छोटा-सा राज्य है। यहां छोटे-बड़े लगभग 40 समुद्री तट है। इनमें से कुछ समुद्र तट अंर्तराष्ट्रीय स्तर के हैं। इसी कारण गोवा की विश्व पर्यटन मानचित्र के पटल पर अपनी एक अलग पहचान है।

गोवा राज्य के अंतर्गत आनेवाले खूबसूरत समुद्री तट – Top Famous Beaches in Goa

यहाँ हम आपको गोवा राज्य के अंतर्गत आनेवाले उन खूबसूरत समुद्री तटवर्तीय स्थानों की जानकारी देने वाले है, जिसका आपको जब कभी आप गोवा में पर्यटन के हेतु जाये तो अवश्य लाभ होगा। मन को लुभावने वाले प्राकृतिक सुंदरता से पूर्ण समुद्री किनारो में निम्नलिखित जगह शामिल है, जैसे के;

  1. बागा
  2. अंजुना
  3.  कलंगुट
  4. वेगाटोर
  5. कावेलोसिम
  6. अरमबोल
  7.  कोलवा
  8. पलोम
  9. कैंडोलिम
  10. अगोंडा
  11. बिनौलिम
  12. मोर्जिम
  13. वर्सा
  14. मंदरेम
  15. सिंक्वेरिम

गोवा राज्य के प्रमुख पर्यटन स्थल – Tourism in Goa State

भारत में गोवा राज्य पर्यटन के मामले में सबसे उन्नत राज्य कहाँ जाता है, जहाँ सालभर देश विदेशो से पर्यटक बड़ी मात्रा में घूमने के लिए आते है, इस राज्य के सुंदर प्राकृतिक समंदर किनारे, पेड़ पौधों से हरा भरा माहौल तथा शांत और मन को प्रसन्न करनेवाला वातावरण पर्यटकों का ध्यान अपने ओर आकर्षित करता है।

Tourist Places in Goa

Tourist Places in Goa

Tourist Places in Goa

फल का प्रचुर मात्रा में उत्पादन और सेवन इस राज्य में पाया जाता है, सुंदर चर्च भी इस राज्य की खास पहचान है जिसमे कुछ चर्च ऐतिहासिक है तथा गोवा में प्राचीन, मध्ययुगीन भारत की कला वस्तुए भी मौजूद है जिन्हे देखने यहाँ लोगो की भारी भीड़ उमड़ती है। ऐसेही कुछ स्थलों का विवरण निचे दे रहे है, जैसे के;

  1. दूधसागर वॉटर फॉल्स
  2. अगुडा फॉर्ट
  3. रेइस मेगॉस फॉर्ट
  4. आलोर्ना फॉर्ट
  5. गोवा म्यूजियम
  6. मर्मुगो फॉर्ट
  7. यशवंत गड फॉर्ट
  8. मुजियम ऑफ़ क्रिस्टियन आर्ट
  9. सुनापरंता – सेंटर ऑफ़ गोवा आर्ट
  10. छत्रपति शिवाजी महाराज फॉर्ट
  11. राज भवन
  12. स्प्लैश डाउन वॉटर पार्क
  13. हर्वलेम केव्ज
  14. वज्र पोहा वॉटर फॉल्स
  15. कैंडोलिम बिच
  16. बटर फ्लाई बिच
  17. लाइटहाउस अगुडा
  18. चापोरा किला

इसके अलावा गोवा राज्य की सभी समुद्री तट यहाँ के पर्यटन का प्रमुख केन्द्रस्थान है जिसकी जानकारी आपको पहले ही दी गई है।

गोवा राज्य के पवित्र धार्मिक स्थल – Religion Places in Goa

Temple in Goa

Temple in Goa

  1. कंसारपाल कालिका देवी मंदिर
  2. चर्च ऑफ़ द होली स्पिरिट
  3. बेटीम गुरुद्वारा
  4. कमलेश्वर महरूड़ मंदिर
  5. भगवती मंदिर पेरनेम
  6. बैसिलिका ऑफ़ बोम जीजस
  7. कैथलिक चर्च ऑफ़ सेंट फ्रांसिस ऑफ़ अस्सीसी
  8. चंद्रेश्वर मंदिर
  9. चैपल ऑफ़ सेंट कैथरीन
  10. चर्च ऑफ़ सेंट कैजेटन

गोवा राज्य की जानीमानी हस्तियाँ – Famous Personalities of Goa

Famous Personalities of Goa

Famous Personalities of Goa

  1. अभिनेत्री वर्षा उसगांवकर
  2. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री तथा भारत के पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर
  3. रीटा फारिया – मिस वर्ल्ड ख़िताब जीतनेवाली प्रथम भारतीय महिला
  4. गायिका हेमा सरदेसाई
  5. वैज्ञानिक तथा अध्यापक रघुनाथ माशेलकर
  6. पंडित जितेंद्र अभिषेकी
  7. क्रिस पेरी
  8. ब्रूनो कॉन्टिन्हो
  9. कैंडाइस पिंटो
  10. गायिका किशोरी अमोनकर
  11. श्रीपाद नाईक
  12. साराह जेन डियास

गोवा राज्य के प्रमुख शिक्षा संस्थान/यूनिवर्सिटी – Educational Institutions/Universities in Goa State.

  1. गोवा यूनिवर्सिटी
  2. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, पोंडा
  3. नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, दक्षिण गोवा
  4. बिर्ला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड साइंस
  5. गोवा मेडिकल कॉलेज, बंबोलिम
  6. व्ही.एम सालगांवकर कॉलेज ऑफ़ लॉ

इस विषय पर अधिकतर बार पूछे जाने वाले सवाल – Quiz on Goa

  • गोवा राज्य के अंतर्गत कुल कितने हवाई अड्डे मौजूद है? (How Many Airports In Goa State?)
    जवाब: एक (One)
  •  गोवा राज्य को घूमने जाने हेतु कितना समय लगता है? (How many Days Required to visit Goa?)
    जवाब: लगभग दो दिन, वैसे ये समय आपके मौजूदा स्थान से गोवा राज्य के बीच के अंतर पर भी निर्भर होता है।
  • भारत के राज्य गोवा में पर्यटन हेतु घूमने जाना हो तो सबसे उचित समय कौनसा होता है? (What is the Best Time to visit Goa?)
    जवाब: सालभर में आप कभी भी यहाँ घूमने हेतु जा सकते है जिसमे जून माह से लेकर मार्च माह तक का समय सबसे शानदार वक्त होता है।
  • गोवा राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री कौन थे? (Who is the First Chief Minister of Goa?)
    जवाब: दयानंद बांदोडकर।
  • भारत में गोवा राज्य कहा पर स्थित है? (Where is Goa?)
    जवाब: गोवा राज्य के पश्चिम दिशा में अरबी समंदर फैला हुआ है, वही उत्तर दिशा में तेरेखोल नदी गोवा और महाराष्ट्र राज्य के बीच में से बहती है, पूर्व और दक्षिण दिशा में कर्नाटक राज्य बसा हुआ है।
  • गोवा राज्य के इतिहास की जानकारी हमें किन किताबों से प्राप्त होती है? (Goa History Book)
    जवाब: मिडिवल गोवा, गोवा गोल्ड गोवा सिल्वर – हर हिस्ट्री हर हेरिटेज फ्रॉम अर्लीएस्ट टाइम्स टू २०१९, द गोवा इन्क्विझिशन, गोवा एंड द रिवोल्ट ऑफ़ १७८७, मोड़ा गोवा – हिस्ट्री एंड स्टाइल, बायोग्राफी ऑफ़ गोवा एंड द पोर्तुगीज इन इंडिया, द कल्चरल हिस्ट्री ऑफ़ गोवा, विलेज गोवा – अ स्टडी ऑफ़ गोवा सोशल स्ट्रक्चर एंड चेंज, हाउसेस ऑफ़ गोवा, गोवा ट्रैवेल्स इत्यादि।
  • भारतीय राज्य गोवा किसके लिए मशहूर है? (What is Goa Famous For?)
    जवाब: गोवा भारत में पर्यटन के लिए सबसे ज्यादा मशहूर है तथा इस राज्य मे मौजूद सुंदर और आकर्षक चर्च और प्राकृतिक समुद्री तट भी सबका ध्यान अपने ओर आकर्षित करते है। काजू का उत्पादन राज्य में अधिक होता है तथा मद्य प्रेमी लोगो का गोवा राज्य खास पसंदीदा स्थान है जहाँ कम दामों में देशी विदेशी शराब मिलती है। विदेशी पर्यटक सबसे ज्यादा गोवा में ठहरना और वक्त बिताना पसंद करते है इसलिए देश विदेश में इस राज्य को खासा महत्व प्राप्त हुआ है, इसके अलावा कुछ ऐतिहासिक कला वास्तुए भी राज्य अंतर्गत मौजूद है।
  • गोवा राज्य में ठहरने हेतु सबसे अच्छे जगह के विकल्प कौनसे है? (Best Place to Stay in Goa)
    जवाब: सालसेट, पेरनेम, तिसवाड़ी, बारडेझ, कैनाकोना इत्यादि।
  • कौनसे प्रमुख वन्यजीव अभयारण गोवा राज्य के अंतर्गत मौजूद है? (How many National Park in Goa)
    जवाब: बोंडला वन्यजीव अभयारण, मार्केस पक्षी अभयारण, भगवन महावीर अभयारण, कोटिगो अभयारण, डॉ.सलीम अली पक्षी अभयारण इत्यादि।
  •  गोवा मुक्ति दिवस कब मनाया जाता है? (‘Goa Freedom Day” is celebrated on which day?)
    जवाब: १९ दिसंबर को।

7 thoughts on “गोवा राज्य का इतिहास और जानकारी”

    1. As already mentioned in the post, Goa is a place full of fun and enjoyment. It is a place which one should visit to burst stress and energize themselves.

    1. धन्यवाद विक्रम जी, हमें यह जानकर अच्छा लगा कि आपको हमारा ये पोस्ट पसंद आया। हमें आगे भी इस तरह के पोस्ट अपलोड करते रहेंगे।

    1. One can see one of the best crowd in Goa as it is the most happening place in India. It is a must visit place if you are planning for a working escape.

Leave a Reply

Your email address will not be published.